प्रधानमंत्री का अमेरिका दौरा , क्वालकॉम जैसी कंपनी का भारत में निवेश पर जोर

narendra-modi-in-america

PM Narendra Modi in America,भारत बने 5G तकनीक का सबसे बड़ा निर्यातक, SEO के साथ मीटिंग में श्री नरेंद्र मोदी का निवेश का आवाहन

 

नरेंद्र मोदी के अमेरिकी दौरे से भारत के लिए एक अच्छी खबर की उम्मीद 

 

विश्व की सबसे बड़ी कंपनियों के CEO उनके डायरेक्टर्स में से एक ने कहा कि भारत बनेगा अभी तक का सबसे बड़ा 5G  तकनीक का निर्यातक !

 

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की गुरुवार को वाशिंगटन डीसी में आयोजित एक बैठक में वहां की एक बहुत ही बड़ी कंपनी के सीईओ ने भारत के सामने प्रस्ताव रखा कि भारत के 5G तकनीक क्षेत्र में निवेश करना चाहते हैं भारत के प्रधानमंत्री के सामने अपनी बाते रखते हुए ये कहा कि हम चाहते हैं कि भारत 5G की तकनीक में विश्व में सबसे बड़े निर्यातक के रूप में उभर कर सामने आए. इस पर उस कंपनी के सीईओ क्रिस्टियानो आर आमोन ने इस बात पर सहमति जताई हैं की भारत में निवेश की अपार संभावना है और उनकी कंपनी QUALCOMM 5G तकनीक के क्षेत्र में निवेश करना चाहती है और जिसकी उम्मीद भारत के वर्तमान सरकार से वे रखते है की वर्तमान सरकार इसके लिए उचित वातावरण बनाकर देगी।

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया के सभी जाने माने और बड़े-बड़े कंपनियों के प्रमुखों के साथ मुलाकात की इस मुलाकात में उन्होंने उन सभी कंपनियों के पदाधिकारियों को इस बात से अवगत कराया कि उनके लिए भारत में निवेश की बहुत बड़ी संभावना है और वे इसके लिए सभी को आमंत्रित करते हैं।

 

क्वालकॉम ने भारत की महत्वकांक्षी योजना डिजिटल ट्रांसफॉरमेशन कार्यक्रम में सहभागिता की इच्छा जताई साथ ही सीईओ ने कहा कि भारत बहुत बड़ा बाजार है और वहां असीम संभावनाएं है कंपनी के प्रमुख ने प्रधानमंत्री के साथ एक बातचीत में सेमीकंडक्टर के बारे में भी चर्चा की यह बातचीत का प्रमुख हिस्सा रहा। 

 

प्रधानमंत्री मोदी ने क्वालकॉम की प्रमुख के साथ मीटिंग के दौरान इस बात पर भी चर्चा किया कि वे उनके साथ ठीक उसी प्रकार का सक्रिय भागीदारी निभाना चाहते हैं जिस प्रकार से Navik के साथ हुआ था। मोदी जी ने क्वालकॉम के सामने इस बात का जिक्र किया की यहाँ प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। कंपनी भारत सरकार के साथ मिलकर निर्माण के क्षेत्र में कंधे से कन्धा मिलकर विकास के काम को जारी रख सकती है। 

 

इस बैठक में अमेरिका के पांच कंपनियों ने अपनी सहभागिता दिखाई और मोदी जी ने उन्हें  निवेश का आमंत्रण दिया। 

 

 

इस मीटिंग का प्रमुख उद्देश्य यह है कि भारत में निवेश की पूर्ण संभावना है उसको पूरा करने के लिए प्रधानमंत्री दुनिया के सबसे बड़े कंपनियों में से पांच कंपनियों के साथ आज अपनी मीटिंग को पूरा करते हैं और उनके प्रमुखों से यह आग्रह करते हैं कि भारत आकर निवेश को बढ़ावा दें और इसके लिए भारत सरकार की ओर से उन्हें हर प्रकार की सुविधाएं और साधन उपलब्ध कारवायी जाएगी।

 

प्रधानमंत्री का आश्वासन उन सभी बड़ी कंपनी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है जैसा की आज रोजगार की संभावनाओं को बढ़ाया जाना जरुरी है और Covid के बाद उत्पन्न हुए रोजगार की समस्याओं को दूर करते हुए भारत के युवाओं को एक अवसर उपलब्ध कराया जाएगा।

 

21वीं सदी में भारत विश्व के लिए एक अपार संभावनाओं का  देश है और इसी संभावनाओं को तलाशने की इस मीटिंग की प्रमुख विसेषता रही। इसमें उद्देश्य यह था की भारत के प्रधानमंत्री मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने का जोर देते है।

 

प्रधानमंत्री QUALCOMM के अलावे Adobe के सीईओ शांतनु नरायण , Firstsolar के सीईओ मार्क आर विडमार और अन्य अलग अलग कंपनियों के प्रमुख से बात हुई। हलाकि Apple के सीईओ स्वास्थ्य कारणों से इस मीटिंग में शामिल नहीं हो पाए। 

 

 

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *